विश्व स्थलाकृति विकास ( World topography development )

विश्व स्थलाकृति विकास ( World Topography Development ) पृथ्वी की सतह अत्यंत ही विषम है और इन विषमताओं का निर्माण भी अलग-अलग प्रक्रियाओं द्वारा हुआ है। पृथ्वी की सतह पर पाई जाने वाली इन्हीं विषमताओं को स्थलाकृति कहते हैं। इन्हें निम्नलिखित श्रेणियों में विभाजित किया गया है :  1. प्रथम श्रेणी : महाद्वीप और महासागरीय …

Read more

चट्टान एवं खनिज ( Rocks and minerals )

चट्टान एवं खनिज ( Rocks And Minerals ) चट्टानों का वैज्ञानिक अध्ययन पेट्रोलॉजी (Petrology) कहलाता है जो भूगर्भशास्त्र की एक शाखा है।  चट्टानों का निर्माण जिन पदार्थों से होता है वे खनिज कहलाते हैं। चट्टानों में पाए जाने वाले सर्वाधिक सामान्य खनिज क्वार्ट्ज और फेल्ड्स्पार हैं। विभिन्न खनिजों की कठोरता अलग-अलग होती है। कठोरता के …

Read more

पृथ्वी की आंतरिक संरचना ( Earth’s inner structure )

पृथ्वी की आंतरिक संरचना ( Earth’s Inner Structure ) भूपटल (Crust) यह पृथ्वी की सबसे ऊपरी परत है जिसकी औसत गहराई 33 किमी है।  महाद्वीपीय भागों में इसकी मोटाई लगभग 40 किमी जबकि महासागरीय क्रस्ट की मोटाई 5-10 किमी है। क्रस्ट के ऊपरी भाग का निर्माण अवसादी चट्टानों से हुआ है।  महाद्वीपीय क्रस्ट का निर्माण …

Read more

ग्लोब : अक्षांस एवं देशांतर ( Globe Latitude and Longitude )

ग्लोब : अक्षांस एवं देशांतर ( Globe Latitude And Longitude ) ग्लोब पृथ्वी का एक सच्चा व छोटा प्रतिरूप है।  ग्लोब पर किसी स्थान को इंगित करने के लिए हमें कुछ निश्चित बिन्दु तथा रेखाओं की आवश्यकता होती है।  ग्लोब एक कील पर झुका होता है, जिसे ग्लोब का अक्ष (Axis) । कहा जाता है। …

Read more

पृथ्वी की उत्पत्ति / संकल्पनाएं ( Earth Origin / Concepts )

पृथ्वी की उत्पत्ति / संकल्पनाएं ( Earth Origin / Concepts ) पृथ्वी का आकार पृथ्वी का आकार एक गोले के रूप में है जो ध्रुवों पर चिपटा है। यह ध्रुवों से विषुवत रेखा की ओर हल्की फुली हुई प्रतीत होती है।  यह चिपटापन पृथ्वी के अभिकेन्द्रीय बल के कारण है।  पृथ्वी का वास्तविक आकर ‘जीऑड’ …

Read more

ब्रह्मांड ( The universe )

ब्रह्मांड ( The Universe ) ब्रह्मांड ( The Universe ) में असंख्य तारे, ग्रह, उल्का पिंड, पुच्छल तारे, ठोस एवं गैसीय कण विद्यमान हैं जिन्हें ‘खगोलीय पिण्ड’ कहते हैं। ये सभी पिण्ड ब्रह्माण्ड में एक निश्चित कक्षा में गति करते हैं। एक प्रकाश वर्ष से तात्पर्य वर्ष भर में प्रकाश द्वारा तय की गई दूरी …

Read more

विश्व भूगोल परिचय (Introduction to world geography)

विश्व भूगोल परिचय (Introduction To World Geography) ज्योग्राफी (भूगोल) दो लैटिन शब्दों जियो और ग्राफी से बना है। इसमें जियो (geo) का अर्थ ‘पृथ्वी’ और ग्राफी (graphy) का अर्थ ‘वर्णन करना’ है। भूगोल का अर्थ विज्ञान की वह शाखा है जिसमें पृथ्वी के बारे में अध्ययन किया जाता है। ग्रीक विद्वान हेकिटयस को भूगोल का …

Read more